इसलिए शुभ माना जाता है पूजा में तांबे के बर्तनों का उपयोग


भारत एक ऐसा देश है जहां पर विभिन्न धर्म है। इन धर्मों में कई तरह के रीति-रिवाज और परंपराए है। ये धर्म एक ऐसा धर्म है, जहां पर हर काम बिना किसी मुहूर्त के नहीं किया जाता है। आपने अपने घर की पूजा घर में देखा होगा या फिर किसी को पूजा करते समय कि वहं पर जो जल इस्तेमाल किया जाता है वो तांबे के लोटे में ही रखा जाता है।

ये है फायदे:-
ताबें के बर्तनों के बारें में माना जाता है कि यह सबसे शुद्ध होता है। इसे किसी धातु से मिलाकर नहीं बनाया जाता हैं। इसके अलावा आयुर्वेद में माना जाता है कि ताबें के बर्तन में पानी रखने से पानी शुद्ध हो जाता है। साथ ही किटाणु खत्म हो जाते है। इसलिए इसका इस्तेमाल पूजा में किया जाता है।

जब भी आप किसी भी देवी- देवता कू पजा करने जाते है तो तांबे के लोटे में तुलसी की पत्ती जालने की परंपरा है। इसके अनुसार माना जाता है कि बिना तुलसी के पत्ते डाले भगवान भोजन ग्रहण नहीं करते है। साथ ही यह पानी हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद है। इसका सेवन करने से आपको फेफड़े संबंधी समस्या से निजात मिल जाता है। तांबे क बर्तन में रखें पानी का सेवन करने से पेट संबंध हर समस्या खत्म हो जाती है।

No comments