संयुक्त राष्ट्र ने त्रिपोली में चिकित्साकर्मियों पर हमले की निंदा की


त्रिपोली, लीबिया के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत घासन सलाम ने त्रिपोली में चिकित्साकर्मियों और मेडिकल फैसिलिटी पर हमलों की निंदा की हैं। गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र समर्थित लीबिया सरकार खलीफा हफ्तार की अगुवाई वाली विद्रोही सेना एलएनए (लीबियन नेशनल आर्मी) के खिलाफ सशस्त्र संघर्ष में लगी हुई है।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, लीबिया में संयुक्त राष्ट्र के समर्थन मिशन (यूएनएसएमआईएल) ने कहा, "अप्रैल की शुरुआत में त्रिपोली में विद्रोही सेना के हमले के बाद से स्वास्थ्य कर्मियों और मेडिकल फैसिलिटी के खिलाफ 37 से अधिक हमले किए गए हैं। अस्पताल, फील्ड हॉस्पिटल, आम नागरिक व सैन्य एम्बुलेंस हमले की चपेट में आ चुके हैं।"

बयान में कहा गया, "स्वास्थ्य कर्मियों और फैसिलिटी के खिलाफ निर्मम हमलों की कड़ी निंदा करते हैं, क्योंकि चिकित्सा कर्मियों और ेमेडिकल फैसिलिटी को निशाना बनाना 'युद्ध अपराध' माना जाता है।

अप्रैल की शुरुआत से विद्रोही सेना के खिलाफ सरकार एक घातक सशस्त्र संघर्ष में लगी हुई है, जो राजधानी त्रिपोली पर कब्जा करने और सरकार को उखाड़ फेंकने की कोशिश कर रही है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, अब तक की लड़ाई में 1,000 से अधिक लोग मारे गए हैं। 5,700 से अधिक लोग घायल हुए हैं और 120,000 से अधिक लोगों को अपने घरों से पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा है।

No comments