त्रिपुरा में राज्य के अंतिम राजा के जन्मदिन पर छुट्टी घोषित


अगरतला, भारतीय संघ में रियासत के विलय होने के 70 साल बाद पहली बार त्रिपुरा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अगुवाई वाली सरकार ने राज्य के अंतिम राजा महाराज बीर बिक्रम किशोर माणिक्य के 19 अगस्त को आने वाले जन्मदिन को आधिकारिक अवकाश के रूप में मान्यता प्रदान की है। राज्य के एक अधिकारी ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी।

त्रिपुरा सरकार के सामान्य प्रशासन विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि राज्य के अंतिम राजा महाराजा बीर बिक्रम किशोर माणिक्य के अपार योगदान को देखते हुए राज्य सरकार ने फैसला किया है कि वर्ष 2020 से उनके जन्मदिन 19 अगस्त के मौके पर आधिकारिक छुट्टी होगी।

अधिकारी ने कहा कि राजा बिक्रम (1908-1947) ने राज्य में 1923 से 17 मई 1947 तक शासन किया और बैरिस्टर (वकील) गिरिजा शंकर गुहा को संविधान सभा में अपने डोमेन के प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त करते हुए 28 अप्रैल 1947 को एक शाही फरमान जारी कर तब की त्रिपुरा रियासत को भारतीय संघ में शामिल करने का निर्णय किया था।

केंद्र सरकार ने राज्य सरकार के आग्रह पर पिछले साल अगरतला हवाई अड्डे के नाम को बदलकर इसका नाम राजा बिक्रम करने पर सहमति जताई थी।

महाराज ने ही 1942 में इस हवाई अड्डे का निर्माण करवाया था। इस हवाई अड्डे ने दूसरे विश्वयुद्ध में अहम भूमिका निभाई थी।

No comments