शिवसेना से नाराज भाजपा नेता बी. एल. संतोष ने कहा, ऐसे रिश्ते नहीं चलते


नई दिल्ली,महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए शिवसेना का समर्थन न मिलने से नाराज भाजपा के संगठन महामंत्री बी.एल. संतोष ने कहा है कि ऐसे रिश्ते नहीं चलते। उन्होंने उद्धव ठाकरे की ओर से प्रेस कांफ्रेंस कर भाजपा पर निशाना साधे जाने के बाद कई ट्वीट कर पलटवार किया। भाजपा में संगठन महासचिव की जिम्मेदारी देख रहे बी.एल. संतोष पूर्व में संघ के प्रचारक रहे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि उनके ट्वीट में शिवसेना के रवैये को लेकर संघ की भी नाराजगी छुपी है।

संतोष ने ट्वीट कर कहा, तब रिश्ते नहीं टिकते, जब कोई 'भाजपा को मेरे सामने झुकना होगा' जैसे शब्दों का प्रयोग करता है। गठबंधन सहयोगी के साथ हफ्ते भर से मीडिया के जरिए बातचीत का यह रवैया तनावपूर्ण संबंधों को दिखाता है।

दूसरे ट्वीट में संतोष ने कहा, " उन्होंने (शिवसेना ने) सभ्यता से परे जाकर इस विवाद में नितिन गडकरी, आरएसएस और मोहन भागवत को भी घसीटने की पूरी कोशिश की।"

एक अन्य ट्वीट में संतोष ने कहा, "मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस स्पष्ट कर चुके हैं कि 50-50 फॉर्मूले पर कोई चर्चा नहीं हुई थी। पिछले एक सप्ताह से उठाए गए सभी मुद्दों पर वह प्रेस कांफ्रेंस में जवाब दे चुके हैं।"

चुनाव नतीजे आने के 14 दिन बाद भी शिवसेना के साथ सरकार न बनने और विधानसभा का कार्यकाल खत्म होने के एक दिन पहले शुक्रवार को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस्तीफा दे दिया। इस दौरान उन्होंने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा कि हमने बाला साहेब और उद्धव ठाकरे के बारे में कभी गलत बात नहीं कही, मगर हमारे नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में काफी कुछ कहा गया।

वहीं, बाद में उद्धव ठाकरे ने भी प्रेस कांफ्रेंस कर तीखे तेवर दिखाए। उद्धव ठाकरे ने कहा कि शिवसेना का सीएम होने के सपने को पूरा करने के लिए किसी की मदद की जरूरत नहीं है।

No comments