तमाम राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं के बीच मेरी छोटी सी समस्या


बड़ी बेवफ़ा हो जाती है ग़ालिब, ये घड़ी भी सर्दियों में,

5 मिनट और सोने की सोचो तो, 30 मिनट आगे बढ़ जाती है

                                    ************

मत ढूंढो मुझे इस दुनिया की तन्हाई में,

ठण्ड बहुत है, मैं यही हूँ, अपनी रजाई में..


                                  **************


तमाम राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं के बीच मेरी छोटी सी लोकल समस्या

सारी रात गुज़र जाती है इसी कश्मकश में

ये हवा कहां से घुस जाती है रजाई में  !!

No comments