रोबिन उथप्पा ने सौरभ गांगुली पर छोड़ी उम्मीद, कहा दादा कर सकते है यह काम


दुनियाभर के क्रिकेटर भारत की टी20 लीग इंडियन प्रीमियर लीग में खेलने आते हैं. लेकिन भारतीय क्रिकेटर इ है।इसके पीछे सबसे बड़ी वजह है बीसीसीआई की पॉलिसी। अब कुछ भारतीय क्रिकेटरों ने इसमें बदलाव के लिए आवाज उठाई है। टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा ने बोर्ड से मांग की है कि खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने की इजाजत दी जाए।

रॉबिन उथप्पा ने 2006 में भारतीय टीम में अपना डेब्यू किया था, लेकिन उनका करियर ज्यादा लंबा नहीं चल पाया। इसके बाद से वो सिर्फ घरेलू फर्स्ट क्लास क्रिकेटर और आईपीएल में ही खेल रहे हैं। इसके आधार पर ही उथप्पा ने कहा कि खिलाड़ियों को कम से कम 2 विदेशी लीग में खेलने का मौका मिलना चाहिए।

बीबीसी के 'द दूसरा' पॉडकास्ट में बात करते हुए उथप्पा ने कहा, "हमें जाने देना चाहिए. जब हमें इजाजत नहीं मिलती है तो दुख होता है। अगर हम कम से कम दो विदेशी लीग खेलने जाते हैं तो ये काफी अच्छा होगा क्योंकि खेल के छात्र होने के नाते आप हमेशा सीखना और बढ़ना चाहते हो।"

उथप्पा ने उम्मीद जताई कि गांगुली इस दिशा में कुछ बदलाव कर सकते हैं, क्योंकि वो प्रगतिशील सोच वाले शख्स हैं। उथप्पा ने कहा, "गांगुली काफी प्रगतिशील सोच वाले इंसान हैं, जो हमेशा से भारत को ऊंचे स्तर पर ले जाने के लिए जुटे रहते हैं। असल में आज भारत जहां है, उसकी बुनियाद गांगुली ने ही रखी थी।हमें उम्मीद है कि वो जरूर इस मुद्दे पर ध्यान देंगे।"

No comments