100 दिनों बाद विंध्याचल मंदिर के कपाट खुले


उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में स्थित विश्व प्रसिद्ध विंध्याचल मंदिर का कपाट 100 दिनों बाद, सोमवार को आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया है। रविवार को इस मंदिर को खोलने का निर्णय लिया गया, वहीं 8 जून से देश में कई मंदिर लॉकडाउन में ढील के कारण खोल दी गई थी, लेकिन मां विंध्याचल मंदिर फिर भी बंद रहा, जो 29 जून को खुला।

विख्यात मंदिर मिर्जापुर से लगभग 8 किमी दूर गंगा नदी के तट पर स्थित है, जहां देवी मां विंध्यवासिनी विराजमान होती हैं, यह विख्यात 'सिद्धपीठ' में से एक है।

विंध्य पंडा समाज (वीपीएस) ने 20 मार्च को कोरोनावायरस प्रसार मद्देनजर विंध्याचल मंदिर, कालीखोह और अष्टभुजा मंदिर को बंद करने का फैसला लिया था। 8 जून के बाद जब कई मंदिरें खुल रहीं थी तब पर भी यह मंदिर बंद रखा गया, क्योंकि मंदिर के एक पुजारी को कोरोनावायरस से पॉजिटिव पाया गया था।

वीपीएस के अध्यक्ष पंकज द्विवेदी ने कहा, "हमने भीड़ नियंत्रण के लिए सभी योजनाओं के बाद मंदिर को फिर से खोलने का फैसला किया, सरकार के दिशा निर्देशों के अनुसार सुरक्षा से संबंधित व्यवस्थाओं पर चर्चा की गई और उन्हें लागू किया गया है।"

रविवार दोपहर को पुजारियों द्वारा 'अखंड कीर्तन' का आयोजन किया गया और 'राजश्री आरती' भी को भी पहले की तरह किया गया।

उन्होंने कहा, "भक्तों को मंदिर में दर्शन को लेकर कुछ शर्तों का पालन करना होगा। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग सहित कई अन्य नियमों का पालन किया जाना अनिवार्य होगा।

No comments