टैटू बनवाने की सोच रहे हैं तो इससे पहले बरतें ये सावधानियां

 


 टैटू या कहे गोदना, इसे बनवाने की परंपरा बहुत पुरानी है। पहले की औरतें अपने पति के नाम गुदवाती थी। उस समय में इसे गोदना नाम दिया गया था। शादी के बाद उस वक्त ज्यादातर महिलाएं इसे अपने हाथ, पैर, चेहरे, बाजू ऐसी जगहों पर बनवाते थी, लेकिन वक्त के साथ इसमें भी बहुत चेंज या आया है। अब तो युवाओं में टैटू बनवाने का क्रेज बहुत बढ़ गया है। युवा नाम लिखाने के साथ-साथ अलग-अलग तरह की डिजाइन अपने शरीर में बनवाते हैं। लेकिन इसके फायदे के साथ नुकसान भी है। इसलिए जरूरी है कि कोई भी टैटू बनवाते समय कुछ बातों का ध्यान जरुर रखा जाएं…


टैटू से कई तरह के संक्रमण का खतरा होता है। इससे हेपेटाइटिस, एचआईवी, ग्रैनूलोमस और केल्यॉड जैसी बीमारियां फैल सकती हैं। एचआईवी और हेपेटाइटीस ए,बी,सी खून के संक्रमण से होने वाली बीमारियां हैं जो टैटू की एक ही सुई के कई लोगों पर बार-बार इस्तेमाल होने से हो सकते हैं।

हमेशा अच्छे आर्टिस्ट से ही टैटू बनवाएं। आजकल छोटे और लो कॉस्ट आर्टिस्ट चाइनीज इंक का इस्तेमाल कर टैटू बनवाते हैं लोग सस्ते के चक्कर में चले जाते हैं जो काफी खतरनाक है। इससे बचने के लिए हमेशा अच्छे आर्टिस्ट से टैटू बनवाना चाहिए।


जब भी टैटू बनवाएं उससे पहले लोगों को हेपेटाइटिस बी का टीका लगवा लेना चाहिए। इसके अलावा आपको किसी स्पेशलिस्ट से ही टैटू बनवाना चाहिए, जो इस काम में माहिर हो। स्पेशलिस्ट उपकरण और साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखते हैं। जिस जगह पर टैटू बनवाएं वहां पर रोजाना एंटीबायोटिक क्रीम जरूर लगाते रहना चाहिए।

कुछ लोगों का कहना है कि जो फैशन, स्टाइल के लिए टैटू बनवाते हैं, उन्हें अस्थायी टैटू ही बनवाना चाहिए। ये त्वचा को कभी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं और इसे आप अपने मूड के मुताबिक बदल भी सकते हैं।

No comments